तआरुफ ⁄ परिचय

– तआरुफ – नाम –         सैयद अहमद शाह कलमी नाम –     अहमद फ़राज़ जन्म –         12 जनवरी 1931 मृत्यु –         25 अगस्त 2008 शिक्षा –         एम०ए० उर्दू एवं पर्शियन पेशा –          उर्दू शायर, लेक्चरर...

हम तो खुश थे ़़़

– ग़ज़ल – हम तो खुश थे कि चलो दिल का जुनूँ कुछ कम है अब जो आराम बहुत है तो सुकूँ कुछ कम है रंगे गिरिया ने दिखाई नहीं अगली सी बहार अबके लगता है कि आमेज़िशे खूँ कुछ कम है अब तेरा हिज्र मोसलसल है तो ये भेद खुला ग़मे दिल से ग़मे दुनिया का फोसूँ कूछ कम है उसने दुख सारे ज़माने का मुझे बख्श दिया फिर भी लालच का तक़ाज़ा है काहूँ कुछ कम है राहे दुनिया से नहीं दिल की गुज़रगाह से आ फ़ासला गरचे ज़ियादा है पे यूँ कुछ कम है तुमने देखा ही नहीं मुझको भले वक्तों में ये खराबी कि मैं जिस हाल में हूँ कुछ कम है आग ही आग मेरे गर ये तन में है फ़राज़ फिर भी लगता है अभी साज़े दोरुँ कुछ कम है...