जीवन वृत्त

  नाम–    पं० रामनवल मिश्र पिता–   स्व० रामचन्द्र मिश्र माता–  स्व० कवलपति देवी जन्म– 02-01-1922 बड़का भइया–  स्व० रामअवध मिश्र छोटका भाई–  डॉ० रामदरश मिश्र पढ़ाई –   हिन्दी, उर्दू मिडिल पता– डुमरी मिश्र, पो० बिशुनपुरा वाया बरही, जनपद गोरखपुर (उ०प्र०) सेवा–  ग्राम सुधार में छः महीना आर्गनाइजर (सन 1943 में), 1943 से 1949 तक गाँधी आश्रम में, 1949 से 1982 तक ग्राम पंचायत अधिकारी। विशेष– आकाशवाणी गोरखपुर, वाराणसी, इलाहाबाद, लखनउू, आगरा, सम्भलपुर, बम्बई और दूरदर्शन गोरखपुर, मउू, वाराणसी से कविता तथा गीत का प्रसारण। गोष्ठी व कवि सम्मेलन में कविता पाठ। सम्मान–  विद्‍या निवास मिश्र  न्यास वाराणसी द्वारा लोक कवि सम्मान।...

खा कउवा मामा ़़़़़

टका सेर भाजी ह टका सेर खाजा नगरी अन्हेर हउवे धमधूसर राजा अइसन ना अवसर पइ ब भरि ल अंजुरी खा कउवा मामा गदा गइल जोन्हरी खा कउवा मामा ………. मासू क मोटरी ह गीध रखवार बा चामे क बेरहा कूकुर रखवार बा नाथ नाहींं पगहा खाला खेत गदहा बकुलन के सउँपल बा ताले क मछरी खा कउवा मामा ………. अन्हरा बांटे सिरनी मिलि जुलि खात बा मुसवा मोटाइल लोढ़ा भइल जात बा टूटि गइले सिकहर बिलारी के भागी घिउवे में पाँचो बुड़ल हउवे अंगुरी खा कउवा मामा ………. रहरी क टाटी ह गुजराती ताला सुअरी के ह सेनुर गिरगिटे क माला तेलवा चमेली क माथे छछुनरी के गलवा पे पउडर घसति बाटी बनरी खा कउवा मामा ………. उपदेसवा देत ह अहिन्सा क चीता मुड़ि कटवे बाँचे रमायन आ गीता दे ख कुलबोरनी बनेले पुरुवन्ता सीता कहाली जनमवे क ओढ़री खा कउवा मामा ………....

छ्म्‍िमी नियर मोर आस ़़़़़

छ्म्‍िमी नियर मोर आस केहू गुदुरा लेत बा होइ  जाला मनवां उदास केहू गुदुरा लेत बा केहू गुदुरा लेत बा ………. चाटि जात बा खुनवां पसेनवां काटि लेत बा सिरजल सोनवां लागि जात बाटे सपनवां गरहन बनि जाला केहू क गरास केहू गुदुरा लेत बा ………. सिहुरे न पावत बा झोंपरिया कटले ह घाम बतास अंटरिया दिन दूना हवे रात चौगूना दिनों दिन चढ़ल अकास केहू गुदुरा लेत बा ………. केहू करते दिन रात मरेला सीत घाम आ बरखा सहेला रहि जात हवे साध लुलुआते जाले न भुखिया पियास केहू गुदुरा लेत बा ………. रोज क बाटे इहे कहानी कुआँ खोदि पीयल जात पानी दिनभर धावे दिया भर पावे मरि मरि ह जाला हुमास केहू गुदुरा लेत बा ………....